सपना…

https://riyajhawar07.wordpress.com/2018/07/07/%e0%a4%b8%e0%a4%aa%e0%a4%a8%e0%a4%be/ गहरा अँधेरा छाया है , दिल घबराया है । निकलना है ईस गहराई से , उड़ने का दिल आया है । पंख खुले नहीं है अभी परिंदे के , पंख फडफडाने का हुनर आया है । देख कर आसमां की तरफ अब दिल ललचाया है , इस सपने को सच करने का जोश भर... Continue Reading →

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑