राह..

राह अपने ही सपनों में सो सा गया हूँ इस भीड़ में कहीं मैं खो सा गया हूँ. बिखरना ही है ये, या फ़िर मैं शायद , किसी और धागे पिरौ सा गया हूँ. घर से मैं तकदीर ले के चला था, और मंज़िल की तस्वीर ले के चला था…

Source: राह..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑

%d bloggers like this: