अंधियारी-काली रातों में

जब अंधियारी-काली रातों में एक मुकम्मल बात बनी जब थामा दामन कला का मैंने   कलाकार मेरी जात बनी तब पिरो दिया हर ज्ञान का मोती कला रुपी उस धागे में फिर कलम बनी मोहब्बत मेरी और कला जज़्बात बनी। हर रात सजी महफिल शब्दों की        कला-ज्ञान का मेल हुआ हर रात उन्हीं तारों... Continue Reading →

ओ पथिक ! तुझ पर यहाँ अधिकार सबका है बराबर !

फूल पर हँसकर अटक तो, शूल को रोकर झटक मत, ओ पथिक ! तुझ पर यहाँ अधिकार सबका है बराबर ! बाग़ है ये, हर तरह की वायु का इसमें गमन है, एक मलयज की वधू तो एक आँधी की बहन है, यह नहीं मुमकिन कि मधुऋतु देख तू पतझर न देखे, कीमती कितनी कि... Continue Reading →

A Thoughtless Mind

With my pen uncapped And my journal naked, We sit at a table, We are all irritated. Have spent hours here Waiting for a thought; It was all a waste of time, Not a single thought I’ve caught. Can’t think of any beautiful woman Or of the beauty of skies. Can’t dream or fantasize Any greener... Continue Reading →

The Night Wind

It's just another night. I just want to follow the dreams of delusion, laying awake with eyes with faded vision held wide open. I want my dreams to float along with the tears that burn those brown pieces of glass, but do not desire to be dropped. The fragrance of night wind brings back the... Continue Reading →

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑